Follow us on
Thursday, February 25, 2021
BREAKING NEWS
जम्मू कश्मीर के अनंतनाग जिले में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में दो आतंकी ढेरकोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर केंद्र ने कई राज्यों में भेजे उच्च स्तरीय दलआत्मनिर्भर भारत अभियान के अभिन्न अंग बन रहे हैं किसान - मोदीविधायिका को अविश्वसनीयता के दायरे में खड़ा कर रहा विपक्ष - योगीपंजाब बेशर्मी से गैंगस्टर मुख्तार अंसारी को बचा रहा है - उप्र सरकार ने न्यायालय से कहाअफगानिस्तान पर तालिबान के शासन का समर्थन नहीं करेंगे बाइडन - व्हाइट हाउसभारतवंशी वकील किरण आहूजा अमेरिका के कार्मिक प्रबंधन कार्यालय की प्रमुख के तौर पर नामितलाइट्स को लेकर चिंतित, खिलाड़ियों को तेजी से ढलना होगा - कोहली
Haryana

किसान मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर हर एकड़ में बोई फसल का विवरण दर्ज करवायें - मनोहर लाल

February 19, 2021 07:21 AM

चंडीगढ़ - हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि ‘मेरी फसल-मेरा ब्यौरा’  पोर्टल पर किसानों द्वारा हर एकड़ में बोई गई फसल का विवरण दर्ज करवाया जाना चाहिए। साथ ही, यदि जमीन का कोई टुकड़ा खाली पड़ा है तो उसकी भी जानकारी दी जानी चाहिए।

मुख्यमंत्री ने यह बात आज यहां बुलाई गई हरियाणा किसान कल्याण प्राधिकरण की बैठक के दौरान कही। बैठक में विद्युत तथा नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री रणजीत सिंह, कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जे.पी. दलाल और सहकारिता राज्य मंत्री बनवारी लाल भी मौजूद रहे।

बैठक में बताया गया कि इस समय 92 लाख एकड़ भूमि सत्यापित है जिसमें से लगभग 68 लाख भूमि पर खेती की जा रही है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि इसमें से बाकी 24 लाख एकड़ भूमि का भी पता लगाया जाना चाहिए कि उसका इस्तेमाल किस रूप में हो रहा है। उन्होंने कहा कि ‘मेरी फसल-मेरा ब्यौरा’ योजना के तहत फसल के सत्यापन का मैकेनिज्म मजबूत होना चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि भविष्य में फसल खरीद की शत-प्रतिशत राशि किसानों के खाते में डाली जाए।

मनोहर लाल ने कहा कि केवल कृषि से किसानों की आय बढ़ाना मुश्किल है। इसके लिए बागवानी, फ्लोरीकल्चर, पशुपालन और मत्स्य पालन जैसे कृषि से जुड़े कार्यों को बढ़ावा दिया जाना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि पैरी-अर्बन कृषि के लिए शुरू में चार जिलों- सोनीपत, झज्जर, गुरुग्राम और फरीदाबाद के लिए योजनाएं तैयार की जाएं ताकि वहां स्थानीय जरूरतों के हिसाब से खेती की जा सके।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा किसान कल्याण प्राधिकरण का कार्य किसानों के कल्याण और उनकी आमदनी बढ़ाने से जुड़ी विभिन्न विभागों की योजनाओं की निगरानी करना और उनका सही ढंग से क्रियान्वयन सुनिश्चित करवाना है। साथ ही, इसका कार्य भूमिहीन किसानों समेत किसानों और उनके परिवारों के कल्याण के लिए नई स्कीमें संबंधित विभागों के ध्यान में लाना, उन्हें सुझाव देना और सिफारिशें करना भी है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्राधिकरण में कार्यकारी उपाध्यक्ष का प्रावधान किया जाना चाहिए जो एक सीईओ की तरह कार्य करे।

उन्होंने कहा कि प्राधिकरण का कार्य कृषि को लाभकारी बनाने के लिए कृषि और सम्बद्ध क्षेत्रों के लिए एक व्यापक भूमि उपयोग नीति तैयार करने के साथ-साथ प्राकृतिक आपदा के चलते फसल के नुकसान पर उचित राहत और मुआवजा दिलवाकर किसानों की पीड़ा को कम करना भी है। इसी तरह, इसका कार्य कृषि उत्पादकता बढ़ाने तथा उत्पादन लागत को कम करने के लिए भी सुझाव देना है।

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
मुख्यमंत्री ने दिये बच्चों को के.जी. टू पी.जी. शिक्षा एक ही संस्थान में मुहैया करवाने के निर्देश उपमुख्यमंत्री ने उचाना के अंतर्गत आने वाले विभिन्न गांवों में प्रस्तावित व चालू प्रोजेक्ट्स की समीक्षा की प्रदेश के युवाओं के कौशल विकास के लिए इस तरह के कोर्स शुरू किए जाएं - मुख्यमंत्री श्री गुरू रविदास जी ने भक्तिकाल में जो समरसता का चिंतन दिया था आर्य मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने केंद्र सरकार से एसवाईएल नहर के मुद्दे पर हस्तक्षेप करने का आग्रह किया दुष्यंत चौटाला ने एचएसआईआईडीसी के अधिकारियों से पंचग्राम योजना बारे मंथन किया टैक्स और अनापत्ति प्रमाण-पत्र के लिए अब नहीं लगाने पडेंगे कार्यालयों के चक्कर मुख्यमंत्री ने सरस्वती नदी के पुनरोद्धार के लिए एक परियोजना को मंजूरी दी अंतरराष्ट्रीय सरस्वती महोत्सव-2021 में सोमवार को सेमिनार का आयोजन किया जायेगा रोहतक हत्याकांड का आरोपी दिल्ली में गिरफ्तार