Follow us on
Monday, September 27, 2021
BREAKING NEWS
Chandigarh

प्लाजा में अफगान स्टूडेंट्स के साथ मोमबत्तियां लेकर 20 मिनट तक हुए खड़े हुए शहर के नागरिक

September 13, 2021 06:43 AM

चंडीगढ़ - शहर के नागरिक, टीचर्स और युवा रविवार को शहर में पढ़ने वाले अफगान स्डूटेंट्स के साथ सेक्टर-17 प्लाजा में एक अनोखे 'स्टैंड विद कैंडल्स फॉर 20 मिनट्स ऑफ साइलेंस' विरोध में शामिल हुए जो कि तालिबान द्वारा हाल ही में अफगानिस्तान में लड़कियों और महिलाओं के अधिकारों पर प्रतिबंध लगाने के विरोध में किया गया था तथा इसकी तुलना अफगानिस्तान में 20 साल के उदार और लोकतांत्रिक शासन (2001-2021) से की गई जिसमें महिलाओं ने अकादमिक, संगीत, खेल या रक्षा सभी क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। इसका आयोजन अफगान स्टूडेंट्स यूनिटी ग्रुप और शहर की स्वयंसेवी संस्था युवसत्ता ने मिलकर किया था। इस विरोध में शामिल सभी लोग 20 मिनट तक अपने हाथों में मोमबत्तियां लेकर खड़े हुए।

अफगानिस्तान में लड़कियों और महिलाओं के अधिकारों और सम्मान को बढ़ावा देने के लिए मिले इस समर्थन के प्रति आभार व्यक्त करते हुए अफगान स्टूडेंट्स यूनिटी ग्रुप इन चंडीगढ़ एंड पंजाब के अब्दुल मोनिर कक्कड़ और वालिद अचाकजाई ने कहा कि अफगानिस्तान में महिलाओं पर तालिबान की स्थिति पर स्पष्टता की कमी ने पूरे देश में "अविश्वसनीय भय" पैदा कर दिया है। और हर रोज महिलाओं के अधिकारों पर अंकुश लगाने की खबरें आती रहती हैं। एक अन्य अफगान छात्रा खातिरा नूरी ने कहा कि कुछ महिलाओं को बिना पुरुष रिश्तेदार के घर से निकलने से रोका जा रहा था, कुछ प्रांतों में महिलाओं को काम बंद करने के लिए मजबूर किया गया और हिंसा से भाग रही महिलाओं के प्रोटेक्शन सेंटर्स को निशाना बनाया गया था।

हाल की घटनाओं से आहत नीलोफ़र और लिडा ने कहा कि पिछले तालिबान के शासन के दौरान महिलाओं के अधिकारों पर गंभीर प्रतिबंध थे। ऐसे में महिलाएं और लड़कियां काफी डरी हुई हैं। अपनी चिंताओं को साझा करते हुए जकारिया हुसैन और परवाना ने कहा कि उनके सपना एक ऐसे अफगानिस्तान का है जहां सभी जातीय, धार्मिक पृष्ठभूमि या लिंग के लोग अपनी वास्तविक क्षमता का एहसास करने के लिए पूर्ण स्वतंत्रता और समर्थन का आनंद लेते हैं।

रविवार को किए गए इस प्रसाय का सारांश प्रस्तुत करते हुए शहर की स्वयं सेवी संस्था युवसत्ता, जो पिछले तीन दशकों से सक्रिय रूप से महिला अधिकारों को बढ़ावा दे रही है, के संयोजक प्रमोद शर्मा ने कहा कि वे इस प्रयास में शामिल हुए हैं, क्योंकि यह अफगान महिलाओं के लिए भय और आशा दोनों का क्षण है और दुनिया के लिए अपनी कड़ी मेहनत से जीते गए अधिकारों का समर्थन करने और लैंगिक समानता का वातावरण सुनिश्चित करने का एक जरूरी समय है, जिसका अर्थ है कि महिलाओं और पुरुषों तथा लड़कियों और लड़कों को समान अधिकार, संसाधन, अवसर और सुरक्षा हासिल हों।

Have something to say? Post your comment
More Chandigarh News
पीयू सीनेट चुनाव का पहला फेज संपन्न, चंडीगढ़ में हुआ 8.65 फ़ीसदी मतदान पीजीआई में 17 महीने बाद आज से शुरू होगी वॉक इन ओपीडी बापूधाम कालोनी में आयोजित हुआ फ्री मेडिकल लंगर माइक्रोसॉफ्ट ने फ्यूचर रेडी टैलेंट प्रोग्राम की शुरुआत की नगर निगम सदन में आज फिर गरमा सकता है पेड पार्किंग में स्मार्ट फीचर न होने का मामला नगर निगम चुनाव में 700 से ज्यादा होंगे मतदान केंद्र नए वेतनमान से वंचित यूनिवर्सिटी और कॉलेजों के हजारों शिक्षकों के लिए उम्मीद का किरण बने चन्नी सुखना लेक पर हुए एयर शो में विमानों की तेज गड़गड़ाहट ने लोगों को किया रोमांचित चंडीगढ़ से शारजाह की सीधी फ्लाइट आज से होगी शुरू, एयरपोर्ट पर कोविड टेस्ट अनिवार्य सुखना लेक पर हुई एयर शो की रिहर्सल, आसमान में गूंजी लड़ाकू विमानों की आवाज़