Follow us on
Saturday, October 16, 2021
BREAKING NEWS
Chandigarh

हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट लगवाने के लिए अब किया जा सकेगा ऑनलाइन आवेदन

October 11, 2021 06:50 AM

चंडीगढ़ (मयंक मिश्रा) - अपने वाहन पर हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट (एचएसआरपी) लगवाने के लिए अब आप ऑनलाइन आवेदन कर पाएंगे। ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू होने के बाद  लोगों को सेक्टर-17 स्थित रजिस्टरिंग एंड लाइसेंसिंग अथॉरिटी (आरएलए) के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। आरएलए के अधिकारियों के अनुसार इस सेवा को जल्द शुरू करने पर काम किया जा रहा है। इस सुविधा के शुरू होने के बाद आरएलए में आने वाले लोगों की भीड़ में कमी आएगी। आरएलए ने ज्यादातर सेवाओं के लिए ऑनलाइन अप्वाइंटमेंट की सुविधा दी है, लेकिन जो सेवाएं रह गई हैं, जिसे ऑनलाइन करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

अभी वाहन चालकों को एचएसआरपी के लिए हाथ से लिखे कागज पर आवेदन करना पड़ता है। वाहन के चेसी व इंजन नंबर की जानकारी के साथ आवेदन पत्र को जमा करवाना होता है। इसके बाद हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगवाने की विभाग की ओर से तारीख दी जाती है। उस तारीख पर वाहन चालक को नंबर प्लेट लगवाना होता है। इसके लिए लोगों को कई बार विभाग के चक्कर काटने पड़ते हैं। इस परेशानी को खत्म करने के लिए प्रक्रिया ऑनलाइन की जा रही है।

आरएलए ने कुछ समय पहले हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाने के लिए वाहनों के डीलर्स को अधिकृत किया था। इस नए सिस्टम के शुरू होने के बाद से नए वाहन मालिक डीलर से एचएसआरपी लगवा लेते हैं, लेकिन जो लोग अपने नए वाहन के लिए विशेष नंबर लेते हैं, उन्हें आरएलए में आवेदन करना पड़ता है। हालांकि, इस सुविधा के बाद वह ऑनलाइन भी इसके लिए आवेदन कर सकेंगे। इसके अलावा पुराने सभी वाहनों पर भी एचएसआरपी अनिवार्य की हुई है, इसलिए सभी पुराने वाहनों के मालिकों को भी इस नई व्यवस्था से फायदा होगा।

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट पर एक होलोग्राम स्टिकर लगा है। इस पर इंजन और चेसिज नंबर होता है। एल्युमनियिम प्लेट पर प्रेशर मशीन से नंबर लिखा जाता है। इस पर लेजर कोडेड बार भी होते हैं, जिनपर इंडिया लिखा रहता है। अगर, वाहन चोरी की है या एचएसआरपी के साथ छेड़छाड़ की गई है तो वाहन पोर्टल पर लेजर कोड से वाहन का पूरा ब्यौरा होगा। वाहनों पर प्लेट लगाने के लिए क्लिप है, जिसका दोबारा इस्तेमाल नहीं हो सकता है। एचएसआरपी में मौजूद रजिस्ट्रेशन मार्क, क्रोमियम-बेस्ड होलोग्राम स्टिकर ऐसे होते हैं कि निकालने की कोशिश करने पर खराब हो जाएंगे। इस पर लगे स्टिकर में गाड़ी के रजिस्ट्रेशन नंबर के साथ, रजिस्टर अथॉरिटी, लेजर ब्रांडेड परमानेंट नंबर, इंजन और चेसिस नंबर तक की जानकारी होती है।

कलर कोडेड स्टीकर लगवाने की डेडलाइन खत्म, अब होगा चालान

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर परिवहन विभाग ने सभी वाहनों पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट और कलर कोडेड स्टीकर लगवाना अनिवार्य कर दिया है। मिनिस्ट्री ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाईवेज की नई गाइडलाइंस को रजिस्टरिंग एंड लाइसेंसिंग अथॉरिटी (आरएलए) चंडीगढ़ ने अपना लिया है। इसके तहत अब वाहनों पर एचएसआरपी के साथ कलर कोडेड स्टीकर भी अनिवार्य हो गया है। पहले चरण में सीएच01-बीके सीरीज के वाहन चालकों को 30 सितंबर तक हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट और कलर कोडेड स्टीकर लगवाने का समय दिया गया था। साथ ही यह भी हिदायत दी गई थी कि 30 सितंबर के बाद इस सीरीज के वाहनों का चालान किया जाएगा। 

कलर कोडेड स्टीकर वाहन की विंडशील्ड स्क्रीन पर लगाया जाता है जिसमें स्पीकर का कलर वाहन के फ्यूल को दर्शाता है। नए नियमों के तहत कलर कोडेड स्टीकर या थर्ड रजिस्ट्रेशन मार्क लगा हुआ हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट ही अब मान्य होगा। 2019 से अधिकतर वाहनों में कलर कोड स्टिकर पहले से लगाए जा रहे हैं ताकि नए वाहनों की खरीदारी के बाद अलग से किसी स्टिकर की जरूरत न पड़े। अधिकारियों के मुताबिक, इससे वाहनों के स्टिकर के रंग को देखकर पहचान की जा सकेगी।

Have something to say? Post your comment
More Chandigarh News
ट्राईसिटी में 9 हुए संक्रमित, चंडीगढ़ और पंचकूला में आए 1-1 केस नगर निगम चुनाव की तस्वीर 19 अक्तूबर को होगी स्पष्ट, तय होगा कौन से वार्ड होंगे रिजर्व दशहरे से पहले पटाखे जलाने पर रोक के आदेश ने बढ़ाई रामलीला कमेटियों की परेशानी गति शक्ति नेशनल मास्टर प्लान के लॉन्च पर हुआ राज्य स्तरीय कार्यक्रम प्राइमरी कक्षाओं के छात्र अब 18 अक्तूबर से स्कूल में आकर लगा सकेंगे क्लास ट्राईसिटी में 8 नए मामले, चंडीगढ़ में 5 हुए संक्रमित चंडीगढ़ में अगले आदेश तक पटाखों की बिक्री और जलाने पर लगा प्रतिबंध चंडीगढ़ को केंद्र से 50 मेगावाट कम मिलेगी बिजली, प्रशासन ने कहा फिलहाल कोई संकट नहीं इंटरनेशनल डे ऑफ गर्ल चाइल्ड पर 550 स्कूल गर्ल्स ने गुलाबी पगड़ी पहन कर बनाई ह्यूमन चेन चंडीगढ़ के 13 गांवों के विकास कार्यों की प्रशासक ने रखी नींव