Follow us on
Saturday, October 16, 2021
BREAKING NEWS
Chandigarh

चंडीगढ़ में अगले आदेश तक पटाखों की बिक्री और जलाने पर लगा प्रतिबंध

October 13, 2021 06:42 AM

चंडीगढ़ (मयंक मिश्रा) - यूटी प्रशासन ने मंगलवार को बड़ा फैसला लेते हुए पटाखों की खरीद-बिक्री और जलाने पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा दिया है। अगले आदेश तक यह पाबंदी जारी रहेगी। यूटी प्रशासन की डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी की एग्जीक्यूटिव अथॉरिटी ने डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के तहत यह फैसला लिया है। ऐसे में पिछले साल की तरह इस बार भी चंडीगढ़ में दिवाली पर लोग पटाखे नहीं चला सकेंगे।

यूटी के प्रशासक के सलाहकार धर्म पाल की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया। धर्मपाल ने मंगलवार को डीसी मनदीप सिंह बराड़ और दूसरे अधिकारियों की बैठक बुलाई थी जिसमें यह फैसला लिया गया। अगर कोई इस आदेश का उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट की धारा 51 से 60 के तहत कार्रवाई होगी और साथ ही आईपीसी की धारा 188 के तहत कानूनी कार्रवाई होगी।

उधर, प्रशासन के इस फैसले से शहर के पटाखा विक्रेता नाराज हैं। चंडीगढ़ क्रैकर्स डीलर्स एसोसिएशन ने पटाखों की बिक्री और इस्तेमाल की इजाजत देने के लिए डीसी मनदीप सिंह बराड़ को पत्र लिखा है। पिछले साल दिवाली से कुछ दिन पहले पटाखों की बिक्री और चलाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। पिछले साल प्रशासन ने ड्रा के जरिये लाइसेंस तो पटाखे विक्रेता को जारी किए, लेकिन बाद में कोरोना की स्थिति और प्रदूषण को देखते हुए पटाखे जलाने की मंजूरी नहीं दी थी हालांकि मोहाली और पंचकूला में पिछली बार पटाखे बिके और चलाए गए थे और इस बार बिक्री होगी, क्योंकि दोनों राज्यों की सरकारों ने प्रतिबंध नहीं लगाया है।

पिछले वर्ष भी सवाल उठा था कि जब मोहाली और पंचकूला में पटाखे चलेंगे तो सिर्फ चंडीगढ़ में प्रतिबंध लगाकर क्या फायदा। हालांकि प्रशासन ने इस तर्क को नहीं माना था। इससे पटाखा विक्रेताओं को लाखों का नुकसान हुआ था। चंडीगढ़ क्रैकर्स डीलर्स एसोसिएशन के प्रधान दविंदर गुप्ता व महासचिव चिराग अग्रवाल की ओर से डीसी लिखे गए पत्र में कहा गया है कि इस वर्ष भी पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश सरकार ने पटाखों की बिक्री और चलाने पर प्रतिबंध नहीं लगाया गया है। ऐसे में इस वर्ष चंडीगढ़ में भी पटाखों की बिक्री और चलाने की इजाजत दी जाए।

गौरतलब है कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने पटाखों से होने वाले प्रदूषण को गंभीरता से लेते हुए पिछले साल चंडीगढ़ को नोटिस जारी किया था शहर की विभिन्न संस्थाओं ने पिछले साल पटाखों की बिक्री और जलाने पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी। इसको लेकर एनजीटी में भी कई याचिकाएं दाखिल की गई थीं। विभिन्न समूहों की ओर से दायर याचिकाओं में 30 नवंबर तक पटाखों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की गई थी। वर्ष 2017 में प्रशासन ने तीन दिन के लिए पटाखों की बिक्री और चलाने पर प्रतिबंध हटाया था। इसमें दशहरा, दिवाली और गुरुपर्व पर शाम से 6.30 से 9.30 बजे तक पटाखे चलाने की अनुमति दी गई थी। वर्ष 2018 और 2019 में प्रशासन ने रात 8 से 10 बजे तक पटाखे चलाने की अनुमति दी थी, जबकि वर्ष 2020 में पटाखों पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया था।

 प्रशासक के सलाहकार ने बैठक में ली मामलों की जानकारी

यूटी के प्रशासक के सलाहकार धर्म पाल ने सोमवार को सचिव स्तर के अधिकारियों की बैठक बुलाई थी जिसमें उन्होंने कई विभागों से जुड़े मामलों पर जानकारी ली। बजट खर्च पर जानकारी लेने के बाद उन्होंने सभी एचओडी से अपने स्तर पर चैक रखने के आदेश दिए। साथ ही निर्धारित लक्ष्य के तहत बजट खर्च करने के आदेश दिए। इसके अलावा सलाहकार ने अधिकारियों को स्टूडेंट्स की स्कॉलरशिप जल्द जारी करने के आदेश दिए। उन्होंने कहा कि बेवजह स्कॉलरशिप नहीं अटकनी चाहिए।

Have something to say? Post your comment
More Chandigarh News
ट्राईसिटी में 9 हुए संक्रमित, चंडीगढ़ और पंचकूला में आए 1-1 केस नगर निगम चुनाव की तस्वीर 19 अक्तूबर को होगी स्पष्ट, तय होगा कौन से वार्ड होंगे रिजर्व दशहरे से पहले पटाखे जलाने पर रोक के आदेश ने बढ़ाई रामलीला कमेटियों की परेशानी गति शक्ति नेशनल मास्टर प्लान के लॉन्च पर हुआ राज्य स्तरीय कार्यक्रम प्राइमरी कक्षाओं के छात्र अब 18 अक्तूबर से स्कूल में आकर लगा सकेंगे क्लास ट्राईसिटी में 8 नए मामले, चंडीगढ़ में 5 हुए संक्रमित चंडीगढ़ को केंद्र से 50 मेगावाट कम मिलेगी बिजली, प्रशासन ने कहा फिलहाल कोई संकट नहीं इंटरनेशनल डे ऑफ गर्ल चाइल्ड पर 550 स्कूल गर्ल्स ने गुलाबी पगड़ी पहन कर बनाई ह्यूमन चेन हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट लगवाने के लिए अब किया जा सकेगा ऑनलाइन आवेदन चंडीगढ़ के 13 गांवों के विकास कार्यों की प्रशासक ने रखी नींव