Follow us on
Thursday, May 19, 2022
BREAKING NEWS
ISSF Junior World Cup: म्हारी छोरियों ने जर्मनी में गोल्ड पर लगाया निशानायमुनानगर: नगर निगम ने अपनाई गांधीगिरी, हाथ जोड़कर अतिक्रमण करने वालों को समझायाज्ञानवापी विवाद: बबीता फोगाट का ट्वीट- लिखा, मोदी है तो मुमकिन है, यूजर्स ने किया ट्रोलUttarakhand में 48 घंटों से ज्यादा समय तक फंसे पर्वतारोहियों को ITBP ने बचायायमुनानगर: जिले में धर्म परिवर्तन करवाई गई लड़की की सनातन धर्म में करवाई घर वापसीRohini अदालत में न्यायाधीशों के chamber के पास लगी आग शीना बोरा हत्या मामला: उच्चतम न्यायालय ने आरोपी इंद्राणी मुखर्जी को दी जमानतयमुनानगर: हार्डवेयर व पेंट की दुकान में लगी भयंकर आग, धमाका, मचा हड़कंप
World

भारतीय उच्चायुक्त ने श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे से की मुलाकात

May 14, 2022 07:34 AM

कोलंबो (भाषा) - श्रीलंका में भारत के उच्चायुक्त गोपाल बागले ने देश के नए प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे से शुक्रवार को मुलाकात की और आर्थिक संकट से जूझ रहे द्वीपीय देश की मौजूदा स्थिति पर चर्चा की। सूत्रों ने यह जानकारी दी। विक्रमसिंघे के प्रधानमंत्री पद का कार्यभार संभालने के बाद उनसे मुलाकात करने वाले बागले पहले विदेशी राजदूत हैं।

देश की कर्ज में डूबी अर्थव्यवस्था को उबारने और राजनीतिक गतिरोध समाप्त करने का इरादा जताते हुए, यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) के नेता विक्रमसिंघे (73) ने बृहस्पतिवार को श्रीलंका के 26वें प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली। जनता के भारी विरोध के बाद महिंदा राजपक्षे ने सोमवार को प्रधानमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था।

सूत्रों ने बताया कि विक्रमसिंघे के पदभार संभालने के बाद शुक्रवार को बागले उनके कार्यालय पहुंचे और उनसे मुलाकात की। उन्होंने देश की वर्तमान स्थिति और मौजूदा आर्थिक संकट पर चर्चा की।

श्रीलंका 1948 में ब्रिटेन से आजाद होने के बाद से सबसे खराब आर्थिक संकट से जूझ रहा है। भारत जनवरी से ही श्रीलंका की, आर्थिक सहायता पैकेज के जरिए मदद कर रहा है। श्रीलंका में विदेशी मुद्रा की कमी के कारण भारत ने ईंधन और अन्य आवश्यक वस्तुओं की खरीद के लिए उसे ऋण सुविधा प्रदान की है।

भारत ने इस साल जनवरी से ऋण, ऋण सुविधा और अदला-बदली सुविधा के जरिए श्रीलंका की तीन अरब डॉलर से अधिक की मदद करने की प्रतिबद्धता जतायी है। अप्रैल के मध्य में श्रीलंका ने विदेशी ऋण प्रतिबद्धताओं को पूरा करने में अपनी अक्षमता जाहिर करते हुए दिवालिया होने की घोषणा की थी।

देश में विदेशी मुद्रा की भारी कमी हो गई है, जिससे वह खाद्य पदार्थों और ईंधन के आयात के लिए भुगतान नहीं कर पा रहा है। इस कारण देश में व्यापक स्तर पर सरकार विरोधी प्रदर्शन किए जा रहे हैं और राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के इस्तीफे की मांग की जा रही है।

 
Have something to say? Post your comment
More World News
राष्ट्रपति कोविंद ने जमैका की राजधानी में आंबेडकर के नाम पर बनी एक सड़क का किया उद्घाटन अमेरिका 21वीं सदी में दुनिया का नेतृत्व करने के लिए बेहतर स्थिति में - बाइडन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जमैका पहुंचे लिट्टे के संभावित हमले की खबर के मद्देनजर सुरक्षा बढ़ाई जा रही - श्रीलंका भारत के 75 गांवों का इजराइली सहयोग से रूप बदला जाएगा - कृषि मंत्री तोमर इस महिला ने 10वीं बार फतह की Everest चोटी, अपना ही Record तोड़ा भारत अपने सैनिकों को श्रीलंका नहीं भेजेगा - भारतीय उच्चायोग वेस्ट बैंक में इज़राइली सेना की कार्रवाई में अल-जज़ीरा की पत्रकार की मौत प्रधानमंत्री शरीफ के खिलाफ जांच करने वाले एफआईए अधिकारी की दिल का दौरा पड़ने से मौत Sri Lanka में हिंसा में अब तक आठ लोगों की मौत, महिंदा राजपक्षे की गिरफ्तारी की मांग तेज