Follow us on
Sunday, June 26, 2022
BREAKING NEWS
राहुल गांधी के कार्यालय पर हुए हमले के मामले में एसएफआई के 19 कार्यकर्ता गिरफ्तारमहाराष्ट्र संकट : फोन पर धमकी, गालियां दी जा रही हैं, शिवसेना सांसद चतुर्वेदी ने कहातनाव की राजनीति देशहित में नहीं - गहलोतप्रधानमंत्री हसीना ने बांग्लादेश के सबसे लंबे पद्मा पुल का उद्घाटन कियाएशियाई खेल और विश्व चैंपियनशिप में एक माह का अंतर रहने पर दोनों में भाग लूंगा - बजरंगवीएफएस कैपिटल की पोर्टफोलियो 1,500 करोड़ रुपये तक पहुंचाने की योजनाकन्नड़ फिल्मकार हरि संतोष प्यारी सी लव स्टोरी से करने जा रहे हैं बॉलीवुड में एंट्रीजर्मनी और यूएई की यात्रा के दौरान 15 से अधिक कार्यक्रमों में शामिल होंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
India

उच्च न्यायालय ने चुनावी घोषणापत्रों में नकदी हस्तांतरण पर रोक संबंधी याचिका खारिज की

May 18, 2022 07:24 AM

नयी दिल्ली (भाषा) - दिल्ली उच्च न्यायालय ने राजनीतिक दलों के चुनावी घोषणापत्रों में नकद हस्तांतरण की पेशकश को भ्रष्ट चुनावी तौर तरीका घोषित करने के अनुरोध संबंधी एक जनहित याचिका मंगलवार को खारिज कर दी। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश विपिन सांघी और न्यायमूर्ति नवीन चावला की पीठ ने याचिका खारिज कर दी और कहा कि विस्तृत आदेश बाद में दिया जाएगा। पीठ ने कहा, ‘‘हमें याचिका में कोई तथ्य नहीं मिला। इसलिए हम इसे खारिज करते हैं।’’

अदालत दो अधिवक्ताओं- पाराशर नारायण शर्मा और कैप्टन गुरविंदर सिंह द्वारा दायर जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिनके वकील ने दलील दी कि चुनावी घोषणापत्र में बिना किसी काम के नकद की पेशकश को अवैध घोषित किया जाना चाहिए।

उच्च न्यायालय ने पूर्व में एक जनहित याचिका पर निर्वाचन आयोग से सवाल पूछा था कि वह उन राजनीतिक दलों के खिलाफ कार्रवाई करने से क्यों कतरा रहा है जो भ्रष्ट आचरण पर उसके दिशानिर्देशों का उल्लंघन कर रहे हैं । पीठ की यह टिप्पणी निर्वाचन आयोग के वकील यह कहने के बाद आई कि वह ‘भ्रष्ट आचरण’ के संबंध में पहले ही दिशानिर्देश जारी कर चुका है और इसे राजनीतिक दलों को भी भेजा गया है।

अदालत ने पूर्व में नोटिस जारी किया था और याचिका पर केंद्र की प्रतिक्रिया मांगी थी। याचिका में कहा गया था कि इस तरह के ‘‘वोट के लिए नोट’’ के वादे जन प्रतिनिधित्व कानून की धारा 123 का उल्लंघन हैं। पीठ ने दो राजनीतिक दलों - कांग्रेस और तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) से भी जवाब मांगा था क्योंकि याचिका में कहा गया था कि 2019 के आम चुनाव में कांग्रेस और तेदेपा ने समाज के कुछ वर्गों को नकद की पेशकश की थी। कांग्रेस ने न्यूनतम आय योजना की घोषणा की थी और 72,000 रुपये (वार्षिक) दिए जाने की पेशकश की थी।

याचिकाकर्ता के वकील ने कहा था, ‘‘कोविड-19 महामारी के दौरान में लोगों के खातों में रकम भेजी गई। (लेकिन) यह एक असाधारण स्थिति थी। अगर राजनीतिक दल बिना किसी काम के धन देने का चलन शुरू करेंगे तो हमारे उद्योग, कृषि खत्म हो जाएंगे।’’

याचिका में कहा गया है कि लोकतंत्र की सफलता एक ईमानदार सरकार पर टिकी होती है जो भ्रष्ट आचरण से मुक्त स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव के माध्यम से चुनी जाती है।

 
Have something to say? Post your comment
More India News
राहुल गांधी के कार्यालय पर हुए हमले के मामले में एसएफआई के 19 कार्यकर्ता गिरफ्तार तनाव की राजनीति देशहित में नहीं - गहलोत जर्मनी और यूएई की यात्रा के दौरान 15 से अधिक कार्यक्रमों में शामिल होंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी Baba Ram Rahim : क्या गुरमीत राम रहीम फीके पड़े साध संगत की नजरों में देश में कोविड-19 के 15,940 नए मामले आए, 20 और लोगों की मौत क्या नए भारत में सिर्फ मित्रों की सुनवाई होगी, देश के वीरों की नहीं - राहुल चिदंबरम ने अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर सरकार पर निशाना साधा ब्रिटेन में कंजर्वेटिव पार्टी को दो उपचुनावों में मिली हार, प्रधानमंत्री जॉनसन को झटका गुजरात दंगे: प्रधानमंत्री मोदी को क्लीन चिट देने का फैसला उच्चतम न्यायालय ने बरकरार रखा COVID-19: देश में कोविड-19 के 17,336 नए मामले, 13 और लोगों की मौत