Follow us on
Sunday, June 26, 2022
BREAKING NEWS
राहुल गांधी के कार्यालय पर हुए हमले के मामले में एसएफआई के 19 कार्यकर्ता गिरफ्तारमहाराष्ट्र संकट : फोन पर धमकी, गालियां दी जा रही हैं, शिवसेना सांसद चतुर्वेदी ने कहातनाव की राजनीति देशहित में नहीं - गहलोतप्रधानमंत्री हसीना ने बांग्लादेश के सबसे लंबे पद्मा पुल का उद्घाटन कियाएशियाई खेल और विश्व चैंपियनशिप में एक माह का अंतर रहने पर दोनों में भाग लूंगा - बजरंगवीएफएस कैपिटल की पोर्टफोलियो 1,500 करोड़ रुपये तक पहुंचाने की योजनाकन्नड़ फिल्मकार हरि संतोष प्यारी सी लव स्टोरी से करने जा रहे हैं बॉलीवुड में एंट्रीजर्मनी और यूएई की यात्रा के दौरान 15 से अधिक कार्यक्रमों में शामिल होंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
World

पाकिस्तान ने एफटीएफ की ग्रे सूची से निकलने के लिए कूटनीतिक प्रयास किए - खबर

June 15, 2022 06:49 AM

इस्लामाबाद (भाषा) - पाकिस्तान ने विश्व स्तर पर धनशोधन तथा आतंकवादी वित्तपोषण के खतरों से निपटने वाले ‘वित्तीय कार्रवाई कार्यबल’ (एफएटीएफ) की ‘ग्रे’ सूची से बाहर निकलने के लिए व्यापक स्तर पर कूटनीतिक प्रयास किए हैं। मीडिया की एक खबर में मंगलवार को यह जानकारी दी गई।

पाकिस्तान, धन शोधन पर रोक लगाने में विफल रहने और आतंकवाद वित्तपोषण के कारण पेरिस स्थित ‘वित्तीय कार्रवाई कार्यबल’ (एफएटीएफ) की ‘ग्रे’ सूची मंव 2018 से है। उसे अक्टूबर 2019 तक पूरा करने के लिए एक कार्ययोजना दी गई थी।

हालांकि, एफएटीएफ के आदेशों का पालन करने में विफल रहने के कारण देश अब भी इस सूची में बना हुआ है। न्यूज इंटरनेशनल की खबर के अनुसार, पाकिस्तान को सूची से बाहर निकालने के लिए तुर्की, चीन और मलेशिया के वोट की जरूरत है और तीनों देशों ने पाकिस्तानी अधिकारियों को इसके लिए पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया है।

द न्यूज इंटरनेशनल ने मंगलवार को आधिकारिक सूत्रों के हवाले से बताया कि सूची में पाकिस्तान की स्थिति पर निर्णय जर्मनी की राजधानी बर्लिन में 14 से 17 जून के बीच हो रही बैठक के दौरान किया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक, हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ, विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी और विदेश राज्य मंत्री हिना रब्बानी खार ने अलग-अलग देशों की यात्रा के दौरान एफएटीएफ पर अहम चर्चा की।

खबर के अनुसार, पाकिस्तान ने दंडात्मक कार्रवाई के अलावा, एफएटीएफ कार्य योजना के लगभग सभी बिंदुओं को लागू किया है और उसने मुकदमे भी चलाए तथा सभी प्रासंगिक कानूनी संशोधन भी किए हैं। बर्लिन में एफएटीएफ की बैठक 17 जून तक चलेगी और बैठक के आखिरी दिन फोरम तय करेगा कि किन देशों को अपनी ‘काली’ और ‘ग्रे’ सूची में रखना है।

पाकिस्तान के ‘ग्रे’ सूची में बने रहने से उसके लिए अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ), विश्व बैंक, एशियाई विकास बैंक (एडीबी) और यूरोपीय संघ से वित्तीय सहायता प्राप्त करना मुश्किल होता जा रहा है, जिससे देश के लिए समस्याएं और बढ़ रही हैं।

पाकिस्तान अब तक चीन, तुर्की और मलेशिया जैसे करीबी सहयोगियों की मदद से ‘काली’ सूची में शामिल होने से बचता रहा है। एफएटीएफ एक अंतर-सरकार संस्था है। इसकी स्थापना 1989 में धन शोधन, आतंकवाद वित्त पोषण और अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रणाली की अखंडता के लिए जो खतरे हैं, उनसे निपटने के लिए की गई थी।

एफएटीएफ के वर्तमान में दो क्षेत्रीय संगठन यूरोपीय आयोग और खाड़ी सहयोग परिषद सहित 39 सदस्य हैं। भारत, एफएटीएफ परामर्श और उसके एशिया प्रशांत समूह का सदस्य है।

 
Have something to say? Post your comment
More World News
प्रधानमंत्री हसीना ने बांग्लादेश के सबसे लंबे पद्मा पुल का उद्घाटन किया अफगानिस्तान में आए भीषण भूकंप के कारण देश के सामने एक और आपात स्थिति उत्पन्न हुई - संरा गैस आपूर्ति संकट का सामना कर रहा जर्मनी, चिंताजनक स्तर की चेतावनी जारी की अमेरिका में भारतीय मूल के शख्स की गोली मारकर हत्या श्रीलंका की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है, हम तेल खरीदने में असमर्थ - प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे Earthquake: अफगानिस्तान में भूकंप से तबाही, 155 लोगों की मौत, पाकिस्तान के कई इलाकों में भी हिली धरती योग की शक्ति एकता की शक्ति है - यूएनजीए अध्यक्ष चीन ने हवा में दुश्मन की मिसाइल को मार गिराने वाली मिसाइल का सफल परीक्षण किया अंतरराष्ट्रीय योग दिवस से पहले सैकड़ों लोग वाशिंगटन में योग सत्र में शामिल हुए अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में गुरुद्वारे पर हमले में दो लोग घायल