Follow us on
Sunday, June 26, 2022
BREAKING NEWS
राहुल गांधी के कार्यालय पर हुए हमले के मामले में एसएफआई के 19 कार्यकर्ता गिरफ्तारमहाराष्ट्र संकट : फोन पर धमकी, गालियां दी जा रही हैं, शिवसेना सांसद चतुर्वेदी ने कहातनाव की राजनीति देशहित में नहीं - गहलोतप्रधानमंत्री हसीना ने बांग्लादेश के सबसे लंबे पद्मा पुल का उद्घाटन कियाएशियाई खेल और विश्व चैंपियनशिप में एक माह का अंतर रहने पर दोनों में भाग लूंगा - बजरंगवीएफएस कैपिटल की पोर्टफोलियो 1,500 करोड़ रुपये तक पहुंचाने की योजनाकन्नड़ फिल्मकार हरि संतोष प्यारी सी लव स्टोरी से करने जा रहे हैं बॉलीवुड में एंट्रीजर्मनी और यूएई की यात्रा के दौरान 15 से अधिक कार्यक्रमों में शामिल होंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
Chandigarh

चंडीगढ़ में भूजल के गिरते स्तर को देखते हुए पांच साल बाद बंद होंगे 220 ट्यूबवैल्स

June 23, 2022 07:11 AM

चंडीगढ़ (मयंक मिश्रा) - शहर के पांच साल के बाद 2027 में 24 घंटे पानी की सप्लाई का प्रोजेक्ट शुरू हो जाएगा। उस समय पूरे चंडीगढ़ में कजौली वाटर वर्क्स (नहरी पानी) से ही सप्लाई होगी। इस प्रोजेक्ट के शुरू होने के बाद शहर के भूजल के गिरते स्तर को देखते हुए 2027 में 220 ट्यूबवैल्स को बंद कर दिया जाएगा। शहर में इस समय 220 ट्यूबवैल्स से 22 एमजीडी पानी की सप्लाई हो रही है। साल 2001 में चंडीगढ़ के ट्यूबवैल्स से मात्र 14 एमजीडी पानी की आपूर्ति होती थी, लेकिन साल 2018 में यह आपूर्ति 27 एमजीडी पहुंच गई।

इसके अलावा शहर में पार्कों की इरिगेशन, हार्टिकल्चर और प्राइवेट एग्रीकल्चर के लिए लोगों ने ट्यूबवैल लगाए हुए हैं।  यही वजह है कि शहर का भूजल स्तर तेजी से गिर रहा है। जल स्तर गिरने का कारण है कि शहर में लगे ट्यूबवैल से धड़ल्ले से पानी की सप्लाई आ रही है। नगर निगम के अधिकारियों का कहना है कि 24 घंटे पानी की सप्लाई शुरू होने के साथ ही ट्यूबवैल्स से पानी सप्लाई नहीं ली जाएगी। इससे भूजल स्तर में काफी सुधार होगा।

सेंट्रल ग्राउंड वाटर बोर्ड भी शहर में गिर रहे भूजल स्तर को लेकर चिंता जा चुका है। सुखना लेक के साथ लगते वीवीआईपी सेक्टर-3 में भूजल 53.64 मीटर बिलो ग्राउंड लेवल है। वहीं बुड़ैल में शैलो वाटर 2.75 मीटर बिलो ग्राउंड लेवल पर उपलब्ध है। एक छोर से शहर के दूसरे छोर में ही ग्राउंड वॉटर लेवल में 50 मीटर से अधिक का अंतर है। जो चिता बढ़ाने वाला है। भू-जल विभाग के अनुसार पिछले 10 सालों में शहर का भूजल स्तर 12 मीटर के करीब कम हुआ है। वहीं, नगर निगम के जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारी चाहते हैं कि भूजल स्तर में सुधार करने के लिए ट्यूबवैल्स से होने वाली पानी की सप्लाई को अभी से ही बंद कर दिया जाना चाहिए, लेकिन पार्षदों के दबाव के कारण ऐसा नहीं हो पा रहा है। कजौली वाटर व‌र्क्स के छह फेजों से शहर में 87 एमजीडी पानी आ रहा है। स्मार्ट सिटी के अनुसार 24 घंटे पानी की सप्लाई होने से जो इस समय पानी की बर्बादी 30 फीसदी से ज्यादा हो रही है, वह भी 15 फीसदी से कम हो जाएगी।

मौजूदा समय में पानी की सप्लाई में लगभग 58 एमजीडी कजौली वाटर व‌र्क्स के फेज-1, 2, 3 और 4 से हो रही है। शेष 27 एमजीडी वाटर नगर निगम अपने 220 ट्यूबवैल्स से निकालता है। एक अप्रैल से पानी के रेट भी बढ़ गए हैं, जबकि नगर निगम दोपहर की सप्लाई बंद कर दी है। बीते साल गर्मी में दोपहर को पानी की सप्लाई मिलती थी। असल में घाटा कम करने के लिए नगर निगम दोपहर की सप्लाई बंद की है। नगर निगम ने पहले यह तय किया था कि कजौली वाटर व‌र्क्स से जब पांचवें और छठे फेज से पानी की सप्लाई शुरू होने के बाद ट्यूबवैल्स से पानी की सप्लाई बंद कर दी जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इन दोनों नए फेज से साल 2019 से 29 एमजीडी अतिरिक्त पानी सप्लाई हो रही है।

गौरतलब है कि हाल ही में चंडीगढ़ को 24 घंटे पेयजल आपूर्ति करने के प्रोजेक्ट पर केंद्र सरकार ने मंजूरी दे दी है। जल्द ही इस प्रोजेक्ट के लिए अंतिम मंजूरी वित्त मंत्रालय की ओर से मिल जाएगी। इसके बाद यूरोपियन यूनियन से इस प्रोजेक्ट के लिए 98 करोड़ रुपये की ग्रांट मिल जाएगी। इसके बाद फ्रांस की एएफडी कंपनी से यूटी प्रशासन का एमओयू साइन हो जाएगा। इस प्रोजेक्ट के लिए इसी साल टेंडर हो जाएगा। इस प्रोजेक्ट पर कुल 590 करोड़ रुपये खर्च होने हैं। इस प्रोजेक्ट के शुरू होने से चंडीगढ़ देश में पहला शहर बनेगा जहां पर 24 घंटे पानी आएगा। पानी को स्टोरेज करने की जरूरत नहीं होगी।

गर्मी बढ़ने पर शहर में बढ़ी पानी की मांग

गर्मी बढ़ने के साथ चंडीगढ़ में पानी की किल्लत होने लगी है। क्योंकि पानी की मांग ज्यादा बढ़ गई है। हालाकि शहर में पानी की कमी नहीं है। पूरे देश के मुकाबले में चंडीगढ़ में प्रति व्यक्ति पानी की खपत सबसे ज्यादा है। देशभर में प्रति व्यक्ति औसतन 135 लीटर पानी प्रतिदिन इस्तेमाल करता है, वहीं चंडीगढ़ में प्रत्येक व्यक्ति 245 लीटर प्रतिदिन इस्तेमाल करता है। शहर में इस समय 105 एमजीडी पानी की मांग है। जबकि सर्दी में 70 से 75 एमजीडी की मांग होती है। कजौली वाटर व‌र्क्स के छह फेजों से शहर में 87 एमजीडी पानी आ रहा है। जबकि ट्यूवबेल से 20 से 22 एमजीडी पानी की सप्लाई होती है। ऐसे में कुल 107 एमजीडी पानी की सप्लाई शहरवासियों को हो रही है।

 
Have something to say? Post your comment
More Chandigarh News
करप्शन मामले में गिरफ्तार आईएएस अधिकारी संजय पोपली के बेटे की गोली लगने से हुई मौत नई कार की डिलीवरी और सर्विस पर अब डीलर देगा डस्टबिन और शॉपिंग बैग Chandigarh: IAS Sanjay Popli के इकलौते बेटे की मौत,परिवार ने लगाए विजिलेंस पर आरोप जल्द ही छात्रों को स्कूल में भारी बैग ले जाने से मिलेगा छुटकारा, होमवर्क में भी राहत सीएचबी में 1 जुलाई से ई-सेवाओं के माध्यम से ही जमा किए जा सकेंगे आवेदन चंडीगढ़ की सबसे बड़ी फर्नीचर मार्केट में लगी आग, कई दुकानें चपेट में आई योग को जीवन में अपनाकर हो सकते हैं निरोगी: प्रशासक बीएल पुरोहित Chandigarh Weather Today: ट्राइसिटी में अगले 2 दिन होगी तेज बारिश, 25 जून तक रहेगा मौसम में असर शहर में तेजी से बढ़ रहा साइबर अपराध, हर साल 6 हजार मामले हो रहे दर्ज चंडीगढ़ में कल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर रॉक गार्डन में आयोजित होगा मुख्य कार्यक्रम