Follow us on
Sunday, June 26, 2022
BREAKING NEWS
राहुल गांधी के कार्यालय पर हुए हमले के मामले में एसएफआई के 19 कार्यकर्ता गिरफ्तारमहाराष्ट्र संकट : फोन पर धमकी, गालियां दी जा रही हैं, शिवसेना सांसद चतुर्वेदी ने कहातनाव की राजनीति देशहित में नहीं - गहलोतप्रधानमंत्री हसीना ने बांग्लादेश के सबसे लंबे पद्मा पुल का उद्घाटन कियाएशियाई खेल और विश्व चैंपियनशिप में एक माह का अंतर रहने पर दोनों में भाग लूंगा - बजरंगवीएफएस कैपिटल की पोर्टफोलियो 1,500 करोड़ रुपये तक पहुंचाने की योजनाकन्नड़ फिल्मकार हरि संतोष प्यारी सी लव स्टोरी से करने जा रहे हैं बॉलीवुड में एंट्रीजर्मनी और यूएई की यात्रा के दौरान 15 से अधिक कार्यक्रमों में शामिल होंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
Business

कोयले की सुगम आपूर्ति के लिए सरकार का बिजली उत्पादक कंपनियों को रैक खरीदने का निर्देश

June 20, 2022 07:25 AM

नयी दिल्ली (भाषा) - सरकार ने बिजली उत्पादक कंपनियों (जेनको) को अपने खुद के इस्तेमाल (कैप्टिव) के लिए रैक की खरीद करने का निर्देश दिया है। इससे मानसून के सीजन में बिजली उत्पादक कंपनियों को कोयले की सुगम आपूर्ति सुनिश्चित हो पाएगी। केंद्रीय बिजली मंत्री आर के सिंह ने पीटीआई-भाषा से कहा कि हर साल मानसून के दौरान घरेलू कोयले के उत्पादन में गिरावट आती है। यह पूछे जाने पर कि क्या सरकार मानसून के दौरान उत्पादन और आपूर्ति के मुद्दों के मद्देनजर रैक की व्यवस्था कर रही है, मंत्री ने इसका सकारात्मक जवाब दिया।

सिंह ने कहा, ‘‘रैक एक और समस्या है।’ कोयला मंत्रालय कह रहा है कि कई ऐसे स्थान हैं जहां शुष्क ईंधन उपलब्ध है लेकिन उपलब्धता के अनुरूप इनका परिवहन नहीं हो पा रहा है।’’ उन्होंने कहा कि रैक की कमी के अलावा कुछ मार्गों पर ‘भीड़भाड़’ की वजह से भी आपूर्ति प्रभावित हो रही है।

सिंह ने कहा कि रेलवे को इन मार्गों पर भीड़भाड़ की समस्या के हल को कार्रवाई करने की जरूरत है, जिससे इन स्थानों से ज्यादा कोयला निकाला जा सके। कुछ ऐसे क्षेत्र जहां पर्याप्त रैक उपलब्ध हैं वहां कोयला मंत्रालय को उत्पादन बढ़ाना होगा।

उन्होंने कोई ब्योरे दिए बिना कहा, ‘‘भारतीय रेल अधिक रैक की खरीद कर रही है। ‘‘मैंने जेनको को रैक में निवेश करने का निर्देश दिया है।’’ मंत्री ने कहा कि यदि आपके पास अपना रैक होगा तो आपकी परिवहन की लागत बचेगी। रैक करीब 25-30 साल चलता है। एनटीपीसी के पास पहले से अपने रैक हैं। वे अपने रैक की संख्या बढ़ा रहे हैं। मैंने सभी राज्यों की बिजली उत्पादक कंपनियों से कहा है कि वे अपने रैक खरीदें। इससे रेलवे पर बोझ कम होगा।

उन्होंने कहा कि सरकार मानसून के दौरान बिजली संयंत्रों में कोयले का भंडार बढ़ाकर चार करोड़ टन पर पहुंचाने का प्रयास कर रही है। अभी इन संयंत्रों के पास 2.29 करोड़ टन का भंडार है।

 
Have something to say? Post your comment
More Business News
वीएफएस कैपिटल की पोर्टफोलियो 1,500 करोड़ रुपये तक पहुंचाने की योजना ओयो होटल में रुकने पर छोटे व्यवसायों से जुड़े लोगों को मिलेगी 60 फीसदी छूट श्रीलंका के आर्थिक संकट का आकलन करने के लिए भारतीय प्रतिनिधिमंडल कोलंबो पहुंचा बैंक धोखाधड़ी मामले में डीएचएफएल, उसके पूर्व चेयरमैन, निदेशक के खिलाफ मामला दर्ज गोयनका ने अग्निपथ योजना के प्रतिभाशाली कर्मियों को उद्योग में शामिल करने का सुनहरा अवसर बताया वैश्विक स्तर पर एयरलाइनों का घाटा घटकर 9.7 अरब डॉलर रह जाने की उम्मीद - आईएटीए कई राज्यों में उच्च ऋण के कारण तनाव के संकेत देने वाले आरबीआई के लेख पर मिलीजुली प्रतिक्रिया डीजीसीए ने एयर इंडिया पर 10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया ओवीएल ने कहा, प्रतिबंधों के कारण सखालिन-1 परियोजना से कच्चे तेल की आवाजाही बाधित कोविड की तीन लहरों से जूझने के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था ने जोरदार वापसी की - अमेरिका