Follow us on
Thursday, May 19, 2022
BREAKING NEWS
ISSF Junior World Cup: म्हारी छोरियों ने जर्मनी में गोल्ड पर लगाया निशानायमुनानगर: नगर निगम ने अपनाई गांधीगिरी, हाथ जोड़कर अतिक्रमण करने वालों को समझायाज्ञानवापी विवाद: बबीता फोगाट का ट्वीट- लिखा, मोदी है तो मुमकिन है, यूजर्स ने किया ट्रोलUttarakhand में 48 घंटों से ज्यादा समय तक फंसे पर्वतारोहियों को ITBP ने बचायायमुनानगर: जिले में धर्म परिवर्तन करवाई गई लड़की की सनातन धर्म में करवाई घर वापसीRohini अदालत में न्यायाधीशों के chamber के पास लगी आग शीना बोरा हत्या मामला: उच्चतम न्यायालय ने आरोपी इंद्राणी मुखर्जी को दी जमानतयमुनानगर: हार्डवेयर व पेंट की दुकान में लगी भयंकर आग, धमाका, मचा हड़कंप
Haryana

हरियाणा कांग्रेस का चिंतिन शिविर: किसान नेताओं के साथ हुड्डा की बैठकों का दौर जारी

May 11, 2022 12:56 PM

चंडीगढ़:  अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी द्वारा 13 से 15 मई तक 'नव-संकल्प चिंतन शिविर' के लिए तैयारियां जोरों पर हैं। पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में 'किसान एवं कृषि के उत्थान' हेतु बनी समिति विभिन्न किसान नेताओं से विचार-विमर्श कर रही है। इसी कड़ी में मंगलवार को हुड्डा ने अलग-अलग राज्यों से आए किसान नेताओं के साथ एकबार फिर बैठक की। इसमें तमाम नेताओं ने कृषि उत्थान से जुड़े अपने सुझाव पेश किए। हुड्डा ने इसके लिए किसान नेताओं का आभार जताया और उनके सुझावों को कांग्रेस के एजेंडे में शामिल किए जाने का भरोसा दिलाया।

राजस्थान के उदयपुर में होने वाले तीन दिवसीय चिंतन शिविर में किसानों व कृषि सम्बन्धी मुद्दे पर चर्चा के लिए राजनीतिक प्रस्ताव तैयार करने की बतौर संयोजक  जिम्मेदारी संभाल रहे हुड्डा ने मीडिया को बताया कि किसान आंदोलन के चलते 3 कृषि कानूनों की वापसी होने के बाद भी किसानों के कई सारे ऐसे मुद्दे हैं, जिन्हें सरकार अब भी अनदेखा कर रही है। किसान हित में इन मुद्दों पर गहनता से चर्चा करना और किसानों की मांगों को माना जाना बेहद जरूरी है। इसी के मद्देनजर कांग्रेस की तरफ से यह पहल की गई है। इस पहल को कामयाब बनाने के लिए ही वो लगातार किसानों, किसान संगठनों, किसान नेताओं, कृषि विशेषज्ञों और कृषि वैज्ञानिकों के साथ व्यापक चर्चा कर उनके सुझाव ले रहे हैं।

किसान नेता योगेंद्र यादव ने भी इस पहल का स्वागत किया है। उनका कहना है कि कांग्रेस समेत सभी दलों और सत्ताधारी भाजपा को भी किसानों से संवाद स्थापित करना चाहिए। सड़क से लेकर संसद और राजनीतिक गलियारों में किसानी के मुद्दे पर विमर्श होना बेहद आवश्यक है।

भूपेंद्र सिंह हुड्डा का कहना है कि अलग-अलग किसान चिंतकों से बातचीत में किसानी को लेकर भूतकाल में किए गए उनके कार्य का अनुभव भी काफी लाभकारी सिद्ध हो रहा है। क्योंकि यूपीए सरकार के दौरान उन्हें मुख्यमंत्रियों की वर्किंग कमेटी का अध्यक्ष बनाया गया था। उस कमेटी ने किसानों को सी-2 फार्मूले के तहत एमएसपी देने, किसानों की लागत मापने के तरीके में सुधार करने और उनके कर्ज की ब्याज की दरों को कम करने के सुझाव दिए गए थे। कांग्रेस कार्यकाल में उन्होंने हरियाणा में किसानों के लिए शार्ट टर्म लोन की ब्याज दरों को ‘शून्य’ कर दिया था।
कई किसान नेताओं ने सुझाव दिया है कि उस कमेटी की और भी सिफारिशों को लागू करने की जरूरत है। उन्हें उम्मीद है कि चिंतन शिविर में किसान व मजदूर की भलाई के लिए विस्तृत चर्चा होगी और कांग्रेस पार्टी इसे अपने एजेंडे में शामिल करते हुए किसान मजदूरों के हित में कदम उठाएगी।
 
Have something to say? Post your comment
More Haryana News
ISSF Junior World Cup: म्हारी छोरियों ने जर्मनी में गोल्ड पर लगाया निशाना यमुनानगर: नगर निगम ने अपनाई गांधीगिरी, हाथ जोड़कर अतिक्रमण करने वालों को समझाया ज्ञानवापी विवाद: बबीता फोगाट का ट्वीट- लिखा, मोदी है तो मुमकिन है, यूजर्स ने किया ट्रोल यमुनानगर: जिले में धर्म परिवर्तन करवाई गई लड़की की सनातन धर्म में करवाई घर वापसी यमुनानगर: हार्डवेयर व पेंट की दुकान में लगी भयंकर आग, धमाका, मचा हड़कंप खेल का बदसूरत पक्ष: पहलवान सतेंदर पर आजीवन प्रतिबंध, खेल के दौरान रेफरी पर किया हमला हम सुशासन का संकल्प लेकर सरकार में आए, उसी संकल्प को पूरा करने के लिए दिन-रात जुटे - मुख्यमंत्री सरकार के आईटी कार्यक्रमों के संबंध में विधानसभा सदस्यों के लिए 17 मई को ओरिएंटेशन प्रोग्राम हरियाणा में बनेगा फॉरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने की घोषणा जोर जबरदस्ती की बजाय कानून की पालना सुनिश्चित करे प्रशासन : किसान