Follow us on
Tuesday, January 31, 2023
BREAKING NEWS
लोकसभा में पेश किया गया आर्थिक सर्वे, 2023-24 में विकास दर 6 से 6.8% रहने का अनुमानहमें 2047 तक ऐसा भारत बनाना है जिसमें अतीत का गौरव और आधुनिकता के स्वर्णिम अध्याय हों: राष्ट्रपतिHaryana Cabinet Meeting : हरियाणा मंत्रिमंडल की होगी अहम बैठक, 2 फरवरी को सीएम की अध्यक्षता में होगी बैठकहरियाणा सरकार ने कहा कि सोशल मीडिया पर एक दावा किया जा रहा है, उसमे सच्चाई नहीं है !जम्मू-कश्मीर में सीसीटीवी निगरानी से राष्ट्रविरोधी तत्वों को पकड़ने में मदद मिलेगी: डीजीपीरायपुर: मुख्यमंत्री स्वयं अवैध निर्माण के नियमितिकरण के प्रकरणों की करेंगे समीक्षाशिमला में बर्फबारी के कारण प्रमुख सड़कें अवरुद्धराजस्थान में सबसे अधिक विश्वविद्यालय, उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक कालेज : सर्वेक्षण
Politics

राजस्थान सरकार उर्वरकों, कीटनाशकों के छिड़काव में मदद के लिए किसानों को किराये पर देगी ड्रोन

January 22, 2023 12:53 PM

जयपुर: राजस्थान सरकार उर्वरकों और कीटनाशकों के छिड़काव में मदद के लिए राज्य के निम्न आय वर्ग के किसानों को किराये पर ड्रोन उपलब्ध कराएगी। ये ड्रोन किसानों को कम समय और सीमित लागत में बड़े कृषि क्षेत्र में रसायनों का छिड़काव करने के साथ ही फसलों की निगरानी करने की सुविधा भी प्रदान करेंगे।.

राज्य सरकार अगले दो साल में ‘कस्टम हायरिंग सेंटर’ पर करीब 1,500 ड्रोन उपलब्ध कराएगी। ‘कस्टम हायरिंग सेंटर’ पर आधुनिक कृषि उपयोगी मशीनें किराये पर दी जाती हैं।.

कृषि एवं उद्यानिकी विभाग के प्रमुख सचिव दिनेश कुमार ने कहा, “कृषि संबंधी कार्यों के लिए दुनियाभर में कृत्रिम बुद्धिमता (एआई) और ड्रोन का इस्तेमाल बढ़ रहा है। राजस्थान में भी सरकार प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल को बढ़ावा दे रही है, ताकि किसान अपनी आय और उपज बढ़ा सकें।”.

उन्होंने कहा, “राज्य के प्रगतिशील किसानों ने खेती में ड्रोन का इस्तेमाल पहले ही शुरू कर दिया है। आने वाले समय में कृषि क्षेत्र में ड्रोन की मांग और उपयोगिता में भारी वृद्धि होगी। इसे देखते हुए सरकार ने उन किसानों को किराये पर ड्रोन उपलब्ध कराने का फैसला किया है, जिनकी आय सीमित है और जो उन्नत एवं महंगे ड्रोन नहीं खरीद सकते हैं।”.

मालूम हो कि पारंपरिक कृषि पद्धतियों में या तो हाथों से या फिर ट्रैक्टर पर लगे ‘स्प्रेयर’ की मदद से कीटनाशकों का छिड़काव किया जाता है। ‘स्प्रेयर’ में अधिक मात्रा में कीटनाशक और पानी की जरूरत पड़ती है। यही नहीं, छिड़काव के दौरान ‘स्प्रे’ (पानी में घुले कीटनाशक) का एक बड़ा हिस्सा बर्बाद हो जाता है।.

हालांकि, बेहतर अनुप्रयोग और जैव-दक्षता के कारण ड्रोन-आधारित स्प्रे में कम मात्रा में पानी और कीटनाशकों की आवश्यकता पड़ती है।.

एक अन्य अधिकारी ने कहा कि पारंपरिक छिड़काव की तुलना में ड्रोन से छिड़काव कर 70 से 80 प्रतिशत पानी बचाया जा सकता है।.

कृषि आयुक्त कानाराम ने कहा, “ड्रोन के जरिये खड़ी फसल में पोषक तत्वों की कमी का आसानी से पता लगाया जा सकता है।”.

उन्होंने कहा कि सिंचाई निगरानी, फसल स्वास्थ्य निगरानी, कीट विश्लेषण, फसल क्षति आकलन, टिड्डी नियंत्रण, रासायनिक छिड़काव ऐसे कार्य हैं, जिन्हें ड्रोन के जरिये बेहतर तरीके से किया जा सकता है।.

कृषि विभाग द्वारा खेती में ड्रोन की उपयोगिता को दर्शाने के लिए पिछले बुधवार को जोबनेर के जोशीवास गांव में राज्य स्तरीय ड्रोन तकनीक का लाइव प्रदर्शन किया गया था। इस अवसर पर राजस्थान के कृषि मंत्री लालचंद कटारिया भी मौजूद थे।.

कृषि विशेषज्ञ शिवपाल सिंह राजावत ने कहा कि पैदावार बढ़ाने के लिए वर्तमान कृषि पद्धतियों को अद्यतन करना महत्वपूर्ण और आवश्यक है।.

जयपुर के किसान हेमराज शर्मा कहते हैं, “पारंपरिक रूप से मानव निगरानी के जरिये फसलों पर नजर रखी जाती है। वहीं, कीटनाशकों का छिड़काव या तो हाथों या फिर ट्रैक्टर पर लगे स्प्रेयर से किया जाता है। ड्रोन के इस्तेमाल से ये दोनों ही काम कम समय में ज्यादा प्रभावी ढंग से किए जा सकेंगे। ड्रोन की उपयोगिता को देखते हुए मैं भी अपने खेत में इनका इस्तेमाल करने पर विचार कर रहा हूं।”.

 
Have something to say? Post your comment
More Politics News
लोकसभा में पेश किया गया आर्थिक सर्वे, 2023-24 में विकास दर 6 से 6.8% रहने का अनुमान हमें 2047 तक ऐसा भारत बनाना है जिसमें अतीत का गौरव और आधुनिकता के स्वर्णिम अध्याय हों: राष्ट्रपति राजस्थान में सबसे अधिक विश्वविद्यालय, उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक कालेज : सर्वेक्षण LIVE: आत्मघाती हमले से दहला पेशावर, मस्जिद में ब्लास्ट से अबतक 28 लोगों की मौत, 150 से ज्यादा घायल श्रीनगर: राहुल गांधी ने ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के शिविर स्थल पर, खरगे ने पीसीसी कार्यालय में तिरंगा फहराया ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, ASI ने कार से उतरते ही मारी गोली, गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती राहुल गांधी ने श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा फहराया, इन राज्यों के नेता भी हुए शामिल जयपुर: मुख्य सचिव ने की राज्य फ्लैगशिप कार्यक्रमों की समीक्षा, इंदिरा गांधी शहरी रोजगार गारंटी योजना से बदल सकती है शहरों की तस्वीर - मुख्य सचिव अमृत उद्यान: नाम बदला क्या काम भी बदला होगा, नए रूप में जनता के लिए 31 जनवरी से खुलेगा, क्लिक कर देखें बदलाव! Breaking: चीन ने जो कब्ज़ा किया था, वह 1962 में किया था, अभी नहीं- Dr. S. Jaishankar